Full width home advertisement

Tips&Tricks

Latest News

Post Page Advertisement [Top]


New Delhi । भारतीय सेना का एक यूएवी (अन्मैन्ड एरियल वेहिकल) गलती से सीमा पार कर चीनी हवाई सीमा में चला गया। इस दौरान हादसे का शिकार होने की वजह से यूएवी नष्ट भी हो गया। यहां पर हम आपको बता दें कि भारतीय सेना से मिली जानकारी के मुताबिक एक यूएवी सिक्किम सेक्टर में नियमित उड़ान पर था। और इस दौरान उसका संपर्क कंट्रोल रूम से टूट गया और इस दौरान वो चीनी हवाई सीमा में पहुंच गया। इस पर भारतीय सेना अधिकारियों ने चीनी अधिकारियों को मामले की जानकारी दी।

इस सारे मामले में वेस्टर्न थियेटर कमांड के ज्वाइंट विभाग के कॉम्बैट ब्यूरो के उप प्रमुख jheng शुइली ने कहा है कि एक भारतीय यूएवी (अन्मैन्ड एरियल वेहिकल) ने चीन के हवाई सीमा क्षेत्र में प्रवेश किया और प्रवेश करते ही वह दुर्घटना का शिकार हो गया।
यहां पर हम आपको बताते चलें कि चीनी सीमा सुरक्षा बलों ने ड्रोन की पहचान और उसका सत्यापन किया है। चीनी सेना इस मामले से बहुत ही खफा है झैंग के मुताबिक भारत के इस कदम से चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता का उल्लंघन हुआ है और चीनी सेना इसका कड़ा विरोध करती हैं। उन्होंने कहा कि हम अपने मिशन और जिम्मेदारी को पूरा करेंगे और चीन की राष्ट्रीय संप्रभुता और सुरक्षा की रक्षा करेंगे।

पाकिस्तान सेना ने भी किया था ड्रोन को मार गिराने का दावा 

यहां हम आपको बता दें कि पाकिस्तान ने कुछ दिन पहले भारत पर जासूसी का इल्जाम लगाया था जिसका सोशल मीडिया पर बहुत ही मजाक उड़ाया गया। उस दौरान पाकिस्तानी सेना ने दावा किया था कि भारतीय सेना का एक ड्रोन एलओसी (सीमा) के उस पार गया था जिसे पाकिस्तानी सेना ने मार गिराया।

पाकिस्तान के इस दावे का सोशल मीडिया पर जमकर मजाक भी उड़ा था । 

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने टि्वटर पर जानकारी देते हुए लिखा था कि भारतीय ड्रोन राखचिकरी सेक्टर में घुसा आया, जिसे पाक सेना ने मार गिराया। उन्होंने इस ड्रोन पर जासूसी करने का आरोप लगाया। उन्होंने बताया कि अब ड्रोन का मलबा पाक सेना के पास है। सूत्रों के मुताबिक ये ड्रोन भारत का नहीं था। प्रारंभिक जांच में ये चीन का बना लग रहा था।

No comments:

Post a Comment

Bottom Ad [Post Page]

| Designed by FreeContant